जल संचयन हेतु तैयार की गई कार्ययोजना को गति देना बेहद जरूरी-अभिषेक सिंह

एटा। जिले में जल संचयन हेतु की गई तैयारियों का जायजा लेने पहुंची भारत सरकार की टीम ने जिले के अधिकारियों के साथ बैठक की, इसके साथ ही निधौलीकलां रोड स्थित ग्राम अरथरा स्थित ईसन नदी किनारे पहुंचकर स्थलीय जायजा लिया। भारत सरकार द्वारा भेजी गई टीम में अभिषेक सिंह सेक्रेटरी एएसआरबी, एम.एम. सिंह डायरेक्टर एचआरडी, जीताराम डिप्टी डायरेक्टर सेन्ट्रल वाटर कमीशन शामिल थे। टीम ने शुक्रवार को जनपद मुख्यालय पहुंचकर अधिकारियों से जिले में जल संचयन हेतु की गई तैयारियों के बारे में जानकारी की।


सचिव अभिषेक सिंह ने कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक के दौरान कहा कि जल संचयन के तहत जलेसर तहसील में व्यापक स्तर पर कार्य होने चाहिए। जिले की 576 ग्राम पंचायतों के 2880 स्थानों पर वाटर रिचार्ज पिट सोख्ता गड्डे खोदे जाएं। इण्डिया मार्का हैंडपम्प के बेस्टेज पानी हेतु प्लान तैयार किया जाए। इसके साथ ही खेत तालाब योजना के तहत कन्दूर बोध, समतलीकरण कार्यो को पूर्ण किया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत कार्ययोजना को सावधानीपूर्वक तैयार करते हुए जिले के संतृप्तीकरण हेतु बेहतर प्रयास किए जाएं। जिले में 1878177 पौधे रोपित करने हेतु शासन द्वारा लक्ष्य आवंटित किया गया है, जिसके तहत 15 अगस्त को वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम जिलेभर में आयोजित किया जाएगा। जनसामान्य द्वारा वृक्षारोपण कार्यक्रम के तहत अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित की जाए। कैलाश मंदिर, पटियाली गेट, मारहरा दरवाजा, कटरा मोहल्ला, गांधी मार्केट आदि स्थानों के समीप तालाबों को जीर्णोद्वार किया जाएगा। अधिकारियों के साथ कई किलोमीटर स्वयं भी पैदल चलते हुए ईशन नदी की साफ सफाई व्यवस्था का जायजा लिया।


डीएम ने इस दौरान अधिशासी अभियंता सिंचाई अजय कुमार भारती, डीसी मनरेगा को निर्देश दिए कि आपसी समन्वय कायम रखते हुए ईशन नदी को मनरेगा की मदद से पुनर्जीवित करने में कोई कसर न छोड़ी जाए।


सचिव अभिषेक सिंह और उनकी टीम के सदस्यों ने ईशन नदी पर पहुंचकर, पैदल चलकर स्थलीय जायजा लिया, साथ ही जल संचयन हेतु जिला प्रशासन द्वारा ईशन नदी को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से किए गए कार्यां की सराहना करते हुए जिलाधिकारी आईपी पाण्डेय और उनकी टीम को बधाई दी।


डीएम आईपी पाण्डेय ने बताया कि प्रथम चरण के 5.6 किलोमीटर सफाई कार्य कराया गया है, अतिशीघ्र ईशन नदी का कायाकल्प किया जाएगा, जिससे क्षेत्रीय किसान एवं आमजनमानस को पानी की समस्या से निजात मिलेगी।

इस अवसर पर सीडीओ मदन वर्मा, एडीएम प्रशासन केपी सिंह, एडीएम वित्त एवं राजस्व केशव कुमार, डीडीओ एसएन सिंह कुशवाह, एसडीएम जलेसर अरूण कुमार, एसडीएम सदर नन्दलाल सिंह, डीआईओ एनआईसी संजय कुमार, डीसी मनरेगा पीसी यादव, अधिशासी अभियंता सिंचाई अजय कुमार भारती, डीपीआरओ रतन कुमार, डीडी कृषि विजय शंकर सहित अन्य संबंधित अधिकारी आदि मौजूद थे।


रिपोर्ट-अनंत मिश्रा