तीन दिन बाद खुले मां कामाख्या धाम के पट, भक्तों की लगी लंबी कतार



  • पूरे देश में माँ कामाख्या देवी के सिर्फ दो मंदिर, एक जसराना दूसरा गुवाहाटी में


फिरोजाबाद। जसराना के मां कामाख्या धाम में 22 जून से बन्द पट मंगलवार को सुबह छह बजे विधि-विधान के साथ खोले गये। इस बीच भक्तों का सैलाब उमड़ने लगा। सुबह से ही भक्तो की लम्बी-लम्बी कतारे देखी गयी। पूरे देश में माँ कामाख्या देवी के दो ही मंदिर हैं एक जसराना तथा दूसरा गुवाहटी (आसाम) में मौजूद है।


जिले के एटा रोड स्थित कस्बा जसराना में मां कामाख्या देवी के पट मंगलवार को सुबह चार बजे मंगला आरती के बाद विधि विधान के साथ भक्तो के दर्शनो के लिये खोल दिये गये। पट को पीठाधीश महेश स्वरूप ब्रह्मचारी की देख रेख मेें आठ महिलाओं (नीलम उपाध्याय, निर्मला, उमा शर्मा, अन्जू शर्मा, रेखा शर्मा, अर्चना शर्मा, बबली शर्मा) द्वारा पूजा पाठ के बाद खोल गया। माता के दरबार का पट खोले जाने की सूचना के बाद उनका दर्शन करने वाले भक्तों की लंबी कतार तड़के तीन बजे से ही लग गयी थी। दिन होने तक यह और लंबी होती चली गयी।



जसराना नगर पंचायत अध्यक्ष अवनीश गुप्ता ने भी आम भक्तों की तरह लाइन ने लगकर मां कामाख्या के दर्शन कर उनका आशीर्वाद प्राप्त किया। इधर एसडीएम देवेंद्र कुमार, थाना प्रभारी गिरीश चंद्र गौतम भी अपनी टीम के साथ सुरक्षा व्यवस्था में पूरे दिन डटे रहे। इसके साथ ही एसपी ग्रामीण राजेश कुमार अपने मातहतों से पल पल की जानकारी लेते रहे ताकि कोई अप्रिय घटना न घट सके। वही मन्दिर प्रशासन की तरफ से भी भक्तों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए पर्याप्त इंतजाम किए गए थे। विदित हो कि मां कामाख्या धाम में प्रतिवर्ष "अंबुबाची महोत्सव" का आयोजन किया जाता है। महोत्सव के दौरान तीन दिन तक मां के पट बंद रहते हैं। इन तीन दिनों तक मंदिर में भजनों का दौर चलता रहता है। तीन दिनों तक मां को आम औरतों की तरह रजस्वला होती है। जिसके कारण मां का दर्शन लोगों के लिए प्रतिबंधित रहता है।


रिपोर्ट-फरमान बबलू