मोहम्मदी : प्रकृति का कहर, जीमन के अंदर से निकल रहा धुंआ

खीरी। मोहम्मदी तहसील की रेहरिया चौकी क्षेत्र के अंतर्गत दूल्हापुर गांव जंगल के बीच मूडागलिब के पास गोमती नदी से 1 किलोमीटर दूर धरती से ज्वालामुखी की भांति उबल कर धुआं निकल रहा है। इस बात की जानकारी होते ही इसे देखने के लिए ग्रामीणों की भीड़ गई। लोगों में दहशत का माहौल व्याप्त है। मौके पर स्थानीय प्रशासन और पुलिस बल मौजूद है। 


स्थानीय ग्रामीणों से मिली जानकारी से यह पता चला है कि सुबह से जमीन के अंदर से धुआं निकल रहा था। अंदेशा यह लगाया जा रहा है कि जमीन के अंदर आग इस हिसाब से जल रही है कि मानो कोई ज्वालामुखी फटने वाला है। इस घटना के बाद से इलाके मेंं दहशत का माहौल है। सूचना के बाद मौके पर पहुंचे मोहम्मदी तहसीलदार विकास धर दुबे ने क्षेत्रीय ग्रामीणों को धैर्य रखने की बात कही और और कहा इस प्रकरण को अपदा टीम बुलवा कर इसकी पूर्ण रूप से जांच की जाएगी। रेहरिया चौकी इंचार्ज उग्रसेन सिंह ने मौके पहुंच कर स्थति को संभालते हुए अपने साथ मौजूद पुलिस टीम को आसपास के जंगल में स्थितियों का पता लगाने को कहा। अंदेशा इस बात का भी है कि यह जंगल की आग भी हो सकती है जिसके कारण जमीन के अंदर ही अंदर धुआं फैलाये हुए यहां से निकल रहा है। अभी तक वन विभाग की तरह से कोई भी जिम्मेदार अधिकारी/कर्मचारी मौके पर नहीं पहुंचा है, जबकि स्थानीय ग्रामीणों द्वारा लगातार वन क्षेत्राधिकारी का नंबर लगाया जो कवरेज क्षेत्र के बाहर बता रहा है।



सूत्रों की माने तो करीब 40-50 वर्ष पूर्व इस जगह जंगल था, जिसकी लकड़ियां धीरे धीरे वन माफियाओं द्वारा काट लिया गया। चूंकि इस जगह में जलभराव होता था, इस कारण मिट्टी बाकी बची लकड़ियों के परत के रूप में आ गयी। नमी मिलने के कारण कुछ तत्व जमीन में काफी गहराई में चले गए। लगभग सप्ताह पूर्व वहां वन विभाग या किस अन्य तत्व के द्वारा आग लगाई गई और आग नीचे चली गयी। धीरे-धीरे आग बढ़ती चली गयी। पूरा एरिया लगभग 25-30 बीघे का है। तहसीलदार विकास धर दुबे के मुताबिक ये आग प्रकृति व मानव द्वारा जनित है। वास्तविक स्थितियों का पता जांच के बाद ही लगेगा।


रिपोर्ट-सुखविंदर सिंह कम्बोज