कैप्टन ने नवजोत को किया आउट, स्थानीय निकाय विभाग लिया वापस


पंजाब। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ नवजोत सिंह सिद्धू का बड़बोलापन चुनाव बाद उन्हें भारी पड़ गया। सूत्रों की मानें तो कैप्टन अमरिंदर ने कैबिनेट मीटिंग से नदारद रहने वाले सिद्धू के पर कतरते हुए उनसे स्थानीय निकाय विभाग की जिम्मेदारी वापस ले ली है।


हालांकि, इसके बाद भी सिद्धू पंजाब कैबिनेट में मंत्री बने रहेंगे। उनके पास अभी पर्यटन एवं संस्कृति विभाग का प्रभार मौजूद है। लोकल बॉडी का प्रभार वापस लेकर कैप्टन अमरिंदर ने सिद्धू को स्पष्ट संदेश दे दिया है कि आगे भी उन पर कार्रवाई करने में वह हिचकेंगे नहीं। इसके पहले चुनाव में अपने प्रदर्शन पर सवाल उठाए जाने पर सिद्धू ने कहा,"पंजाब में लोकसभा चुनाव में शहरी क्षेत्र की सीटों पर कांग्रेस ने अच्छा प्रदर्शन किया है। मुख्यमंत्री ने मुझे दो जिलों की जिम्मेदारी दी थी और हमने इन दोनों जिलों में बड़ी जीत दर्ज की। लोगों को चीजों को सही नजरिए से देखना चाहिए। मुझे हल्के में नहीं लिया जा सकता। मैं शुरू से नतीजा देने वाला रहा हूं और मैं पंजाब के लोगों के प्रति जवाबदेह हूं।"


कैबिनेट बैठक में सिद्धू के न पहुंचने को लेकर उन्हें बैठक में न बुलाने समेत तरह-तरह की अटकलें लगाई गईं। कैप्टन अमरिंदर ने अपने फैसले से सिद्धू को स्पष्ट संकेत दिया है कि कांग्रेस आलाकमान राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से उनकी निकटता हर बार उनका बचाव नहीं कर सकती।