गरीबों की जेब पर डाका डाल रहा आधार नामांकन केंद्र

 

महराजगंज/रायबरेली। प्रदेश की योगी सरकार और केंद्र की मोदी सरकार भ्रष्टाचार मिटाने के लाख दावे क्यों न करें लेकिन धरातल पर भ्रष्टाचार का बोलबाला लगातार बरकरार है। आम जनता दलालों के चंगुल से आजाद होने के लिए छटपटा रही है। वहीं प्रशासन की बेरुखी का आलम यह है कि आंखों के सामने चल रहे भ्रष्टाचार को भी नजरअंदाज किया जा रहा है। ताजा मामला महराजगंज पोस्ट ऑफिस में आधार कार्ड के पंजीकरण व संशोधन में खुलेआम जनता से हो रही धन उगाही के रूप में सामने आया है। जिसको लेकर जनता में भारी आक्रोश व्याप्त है। वहीं पोस्ट मास्टर के संरक्षण में फल-फूल रहे दलालों की दुकानें क्षेत्र में सजी हुई हैं।


बताते चलें कि महराजगंज पोस्ट ऑफिस में आधार कार्ड का नामांकन व संशोधन का काम किया जा रहा है। जिसमें तैनात प्राईवेट कर्मचारी लोगों से 100 से लेकर 200 रुपये तक की अवैध धन वसूली कर रहे है। वहीं लोगों को गुमराह कर फिंगरप्रिंट लगाने के नाम पर भी प्रत्येक व्यक्ति से सौ सौ रुपए की अतिरिक्त वसूली कर रहा है नाम न छापने की शर्त पर पोस्ट ऑफिस में आधार कार्ड नामांकन के लिए लाइन में खड़े लोगों ने बताया कि पोस्ट ऑफिस में तैनात तथा कथित कर्मचारी फिंगरप्रिंट के मिलान के बहाने पोस्ट ऑफिस से महज चंद कदमों की दूरी पर स्थित अपनी दुकान पर लोगों को भेजता है। जहां उसकी दुकान में बैठा उसका छोटा भाई प्रत्येक व्यक्ति से 100 रुपये की वसूली कर रहा है। वही पोस्ट ऑफिस में आधार कार्ड के नामांकन के लिए निर्धारित शुल्क से अतिरिक्त 100 रुपये की वसूली अलग की जा रही है जो कि यह सब पोस्ट मास्टर की ठीक नाक के नीचे चल रहा है वहीं लोगों ने बताया कि यदि इसका विरोध करते हैं तो महीनों से हमको दौड़ाया जा रहा है और आधार कार्ड का नामांकन नहीं किया जा रहा है जिसके चलते सब कुछ जानते हुए भी रिश्वत देने के लिए मजबूर होना पड़ रहा  है। वही जो उच्च अधिकारियों से बातचीत की गई तो उन्होंने जांच कर कार्रवाई का आश्वासन दिया अब यह देखना दिलचस्प होगा कि इस भ्रष्टाचार पर लगाम लगती है या फिर बेलगाम कर्मचारी गरीबों की जेबों पर डाका डालते रहेंगे।

 

 रिपोर्ट-विनय सिंह चौहान