ब्रिटेन में नस्लवाद से बचने का निकाल रहे तरीका

ब्रिटेन Britain में नस्लीय भेदभाव का शिकार होने से बचने के लिए 10 साल तक के बच्चे अपने चेहरे को गोरा बना रहे हैं। बाल संरक्षण के लिए काम करने वाली एक संस्था ने यह चेतावनी दी है। जबकि, पुलिस को नाबालिगों के खिलाफ बढ़ते घृणा अपराध को रोकने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है।


राष्ट्रीय बाल क्रूरता निवारण समाज (एनएसपीसीसी) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक Britain ब्रिटेन में साल 2017-18 में पुलिस ने बच्चों के खिलाफ नस्लीय भेदभाव से जुड़े घृणा अपराध के प्रतिदिन 29 के हिसाब से कुल 10,571 मामले दर्ज किए। इस अपराध के शिकार होने वालों में छोटे-छोटे बच्चे भी शामिल थे। हर साल इस तरह के एक हजार नए मामले दर्ज किए जा रहे हैं।


पीड़ितों के हवाले से संस्था ने कहा है कि इन बच्चों के साथ सार्वजनिक स्थलों पर खुलेआम दुर्व्यवहार किया जाता है। स्कूल में गोरे बच्चे उनके साथ दोस्ती नहीं करते हैं। उन्हें अपने देश जाने को कहा जाता है। संस्था ने कहा है कि 2016 में ब्रेक्जिट के लिए कराए गए जनमत के बाद से इस तरह के घृणा अपराध में तेजी आई है।