Airtel Payments बैंक ने बनाया रिकार्ड


लखनऊ। आज Airtel Payments एयरटेल पेमेंट्स बैंक ने कहा कि इसने भारत में 500,000 से ज्यादा मर्चेंट प्वाईंट्स पर ओपन लूप भीम यूपीआई बेस्ड पेमेंट संभव बना दिया है, जिससे ग्राहक अपने मोबाईल फोन से भीम यूपीआई इनेबल्ड बैंक या पेमेंट्स ऐप का उपयोग कर वस्तु व सेवाओं के लिए डिजिटल भुगतान कर सकते हैं।


महराजगंज कस्बे में धूमधाम से मना ईद का त्योहार


मर्चेंट्स के लिए Airtel Payments बैंक के


मर्चेंट्स के लिए Airtel Payments एयरटेल पेमेंट्स बैंक के पेमेंट समाधान के द्वारा ग्राहक अपने मोबाईल फोन से इंस्टैंट कैशलेस पेमेंट कर सकते हैं, जो सीधे उनके बचत बैंक खाते से होता है और इसके लिए उन्हें अपने पसंदीदा भीम यूपीआई इनेबल्ड ऐप के द्वारा मर्चेंट के क्यूआर कोड को स्कैन करना होता है। एयरटेल पेमेंट्स बैंक के यूज़र्स इस क्यूआर का उपयोग कर एयरटेल थैंक्स ऐप द्वारा सीधे अपने बचत बैंक खाते से या फिर वॉलेट से भुगतान कर सकते हैं।


ग्राहकों को अब अनेक पेमेंट ऐप डाउनलोड करने और मेंटेन करने का झंझट नहीं रहेगा और वो अपनी पसंद की भीम यूपीआई इनेबल्ड एप्लीकेशन से भुगतान कर सकेंगे। डिजिटल पेमेंट को सुगम व सुरक्षित बनाने के लिए एयरटेल पेमेंट्स बैंक द्वारा पॉवर्ड भीम यूपीआई पेमेंट्स ग्राहकों को कभी भी और कहीं भी सिंगल इंटरफेस से भुगतान करने में समर्थ बनाएगा।


एयरटेल पेमेंट्स बैंक द्वारा


एयरटेल पेमेंट्स बैंक द्वारा पॉवर्ड भीम यूपीआई आधारित पेमेंट्स मर्चेंट्स के लिए फायदेमंद हैं क्योंकि वो आसानी से पेमेंट अपने बैंक खाते में प्राप्त कर सकते हैं, जिससे उनके लिए कैश के प्रबंधन का जोखिम कम हो जाता है।


इसके अलावा काउंटर पर पेमेंट स्वीकृत करने के लिए विविध तरह के माध्यमों को रखने की जगह मर्चेंट अपनी शॉप में सिंगल क्यूआर कोड रख सकते हैं, जिससे यह उनके लिए एवं ग्राहकों के लिए आसान हो जाए। बैकएंड में भी मर्चेंट्स को विविध वेंडर्स की एप्लीकेशन का प्रबंधन करने की जगह केवल एक एप्लीकेशन का ही प्रबंधन करना होगा।


एयरटेल पेमेंट्स बैंक के मर्चेंट में छोटे मर्चेंट एवं लार्ज फॉर्मेट रिटेल आउटलेट्स हैं और यह फूड लाईफस्टाईल, इलेक्ट्रॉनिक्स आदि ग्राहकों की सभी श्रेणियों को कवर करता है। एयरटेल पेमेंट्स बैंक अपने ऑफलाईन मर्चेंट बेस में काफी वृद्धि करने की योजना बना रहा है और यह आने वाले महीनों में अपने पेमेंट समाधानों के साथ कम से कम दस लाख आफलाईन मर्चेंट्स को समर्थ बनाना चाहता है।