सेना ने अलकायदा आतंकी मूसा जाकिर को मारा, कश्मीर में तनाव

श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के त्राल में अलकायदा की कश्मीर इकाई अंसार गजवत उल हिन्द का तथाकथित प्रमुख जाकिर मूसा सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया है। मूसा को पुलवामा के उसी इलाके में मार गिराया गया है, जहां साल 2016 में सेना ने हिजबुल कमांडर बुरहान वानी को ढेर किया था। जाकिर मुसा के एनकाउंटर के बाद घाटी में पथराव और हिंसा को मद्देनज़र देखते हुए मोबाइल इंटरनेट सर्विस को सस्पेंड कर दिया गया है। साथ ही घाटी के सभी स्कूलों और कॉलेजों को आज बंद करने के आदेश दिए गये हैं।


अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर घाटी में सेना को गुरुवार दोपहर पुलवामा के त्राल में जाकिर मूसा के मौजूद होने की खबर मिली थी। सुरक्षा बलों ने दक्षिणी कश्मीर में घेराबंदी करके तलाशी अभियान शुरू किया है। इस दौरान जाकिर मूसा के ठिकाने की घेराबंदी कर सेना के अधिकारियों ने उसे सरेंडर करने के लिए कहा, जिसपर मूसा ने सेना के अधिकारियों पर ग्रेनेड हमला कर भागने की कोशिश की।


इसके बाद सेना ने जवाबी कार्रवाई करते हुए इलाके में सख्त घेराबंदी की और फिर भारी गोलीबारी करते हुए मूसा को उसी मकान में मार गिराया, जहां उसने पनाह ली थी। इस बीच, मूसा के मारे जाने की खबर फैलते ही पूरे इलाके में तनाव फैल गया। लोग नारेबाजी करते हुए सड़कों पर उतर आए और जगह-जगह पुलिस और आतंकी समर्थक तत्वों के बीच हिंसक झड़पें शुरू हो गईं। हालात को देखते हुए प्रशासन ने त्राल और उसके साथ सटे इलाकों में निषेधाज्ञा लागू कर अलर्ट जारी कर दिया है। चंडीगढ़ स्थित एक इंजीनियरिंग कॉलेज में अपनी पढ़ाई अधूरी छोड़ आतंकी बनने वाले मूसा पर 15 लाख का इनाम था।