रेप के आरोपी अतुल राय की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने की ख़ारिज


नई दिल्‍ली। रेप मामले में आरोपी और यूपी के घोसी लोकसभा सीट से बसपा-सपा के विजयी उम्मीदवार अतुल राय की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी है सुप्रीम कोर्ट से उन्हें अभी राहत नहीं मिली है। अतुल राय ने अपनी याचिका में गिरफ्तारी पर रोक के साथ-साथ FIR रद्द करने की मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट ने अपनी पिछली सुनवाई में भी गिरफ्तारी पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था।


अतुल राय पर एक कॉलेज की छात्रा ने अपहरण व रेप का आरोप लगाया था। एक हफ्ते पहले डीजीपी ओपी सिंह के आदेश पर अतुल राय पर वाराणसी के लंका थाने में दर्ज किया गया था। मामला दर्ज होने के बाद अतुल राय ने गिरफ्तारी से बचने के लिए हाईकोर्ट का रुख किया था, लेकिन हाईकोर्ट से उन्हें राहत नहीं दी थी।


क्या था पूरा मामला ?
बलिया की रहने वाली एक युवती का आरोप था की वह 2015 से वह बनारस में यूपी कॉलेज में पढ़ाई कर रही थी। कॉलेज के छात्रसंघ चुनाव के दौरान गाजीपुर के अतुल राय से मुलाकात हुई थी। मार्च 2018 में पत्नी से मिलवाने के नाम पर लंका थाना स्थित एक फ्लैट में ले गया था। रात में बंदूक के दम पर उसने रेप किया था। पीड़िता का कहना है कि पिता की मौत हो चुकी है, तंग आकर इसकी करतूतों को मुझे फेसबुक के माध्यम से सबको बताना पड़ा था।


आपको बता दें अतुल राय पूर्वांचल के बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी के करीबी हैं।बीजेपी ने अतुल राय के सामने हरि नारायण राजभर को टिकट दिया था। हरि नारायण ने 2014 में यहां से भाजपा के लिए जीत दर्ज की थी। अतुल राय 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में गाजीपुर की जमनिया सीट से बसपा के प्रत्याशी थे।