लकम्मा देवी को चढ़ाते है चप्पलों की माला


मंदिरों में भगवान और देवताओं को खुश करने के लिए फल और फूल चढ़ाते हैं। लेकिन, क्या आपने कभी ऐसे मंदिर के बारे में सुना है जहां चप्पलें चढ़ाई जाती हों? कर्नाटक के कलबुर्गी जिले की आलंद तहसील के गोला गांव में Lakkamma लकम्मा देवी के मंदिर में ऐसा ही होता है। इतना ही नहीं, इस मंदिर की कई और विशेषताएं हैं, जिन्हें जानकर आप भी आश्चर्यचकित हो जाएंगे।यह अनोखा मंदिर कर्नाटक राज्य के गुलबर्ग जिले में स्थित है।


Lakkamma मंदिर में आने वाले भक्त


दीपावली के बाद पंचमी पर यहां मेले के दिन Lakkamma मंदिर में आने वाले भक्त माता से मन्नात मांगते समय पेड़ पर चप्पल बांधते हैं। इसके बाद जिन लोगों की मान्यताएं पूरी हो जाती है वह मंदिर में जाकर देवी को चप्पलों की माला चढ़ाते हैं। इसके पीछे मान्यता है कि मेले की रात देवी मां पेड़ पर बंधी चप्पलों को पहनकर जाती हैं और अपने भक्तों की मन्नात पूरी करती हैं।


गांव वालों का कहना है कि देवी मां एक बार गांव की पहाड़ी पर टहल रही थी, तभी दुत्तारा गांव के देवता की नजर देवी मां पर पड़ी। इसके बाद दुत्तारा गांव के देवता ने उनका पीछा करना शुरू कर दिया। देवी मां ने उनसे बचने के लिए अपने सिर को जमीन में धंसा लिया था। मान्यता है कि, लकम्मा देवी का मंदिर उसी स्थान पर बनाया गया है। माता की मूर्ति को उसी व्यवस्था में रखा गया है और लोग आज भी देवी मां की पीठ की पूजा करते हैं।


मान्यता है कि पहले इस मंदिर में बैलों की बलि दी जाती थी, लेकिन सरकार द्वारा जानवरों की बलि पर रोक लगाने के बाद बलि देना बंद कर दिया गया। स्थानीय लोग कहते हैं कि इससे देवी मां क्रोधित हो गई थी और उन्हें शांत करने के लिए एक ऋषि ने कठोर तपस्या की थी। फिर बलि के बदले चप्पल चढ़ाने की परंपरा शुरू हुई। इस मंदिर के इतिहास के संबंध में कोई जानकारी नहीं मिलती है।


यहां के पुजारी मुस्लिम होते हैं


मुस्लिम परिवार के लोग अपनी स्वेच्छा से इस मंदिर के पुजारी बनते हैं। इसके पीछे कोई तर्क या कहानी नहीं है। वे सालों से इस परंपरा को निभा रहे हैं। इसलिए इस मंदिर में कई मुसलमान भी पूजा करने के लिए आते हैं।