आरएसएस से जुड़ा राष्ट्रीय Muslim मंच


देहरादून। भारतीय संस्कृति और संस्कार के लिए पहचाने जाने वाले संगठन आरएसएस RSS से जुड़ा राष्ट्रीय मुस्लिम मंच देहरादून में आधुनिक मदरसा खोलने जा रहा है। इस काम के लिए राष्ट्रीय मुस्लिम मंच को जमीन का आवंटन भी कर दिया गया है। हालांकि जमीन कहां पर दी गई है इस बात का खुलासा नहीं किया गया है। आधुनिक मदरसे में धार्मिक शिक्षा के साथ ही आधुनिक शिक्षा भी नौनिहालों को दी जाएगी। इसके लिए स्मार्ट कक्षाएं चलाई जाएगी।


इस बार का चुनाव प्रचार “तीर्थयात्रा” : PM Modi


RSS के सहयोग से


आरएसएस RSS के सहयोग से वैकल्पिक विषय के रूप में अन्य धर्मों की पुस्तकें पढ़ाई जाएंगी साथ ही योग की कक्षाएं भी चलेंगी। शुरुआत में कक्षा एक से पांच तक की शिक्षा देने वाले इस आधुनिक मदरसे के लिए मदरसा बोर्ड में मान्यता के लिए आवेदन किया जा रहा है। यह राज्य में पहला और देश का छठवां आधुनिक मदरसा होगा। इससे पहले पांच आधुनिक मदरसे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में खोले जा चुके हैं।


उत्तराखंड में फिलहाल 297 मदरसे हैं। इनमें लगभग 20 हजार नौनिहाल शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। इस कड़ी में राष्ट्रीय मुस्लिम मंच राज्य में एक बड़ी पहल करने जा रहा है। राज्य का पहला आधुनिक मदरसा देहरादून में खुलेगा। राष्ट्रीय मुस्लिम मंच की प्रांतीय महिला शाखा ने इसके लिए प्रयास तेज कर दिए हैं। मंच की उत्तराखंड प्रांत की महिला प्रमुख एवं अल्पसंख्यक आयोग की सदस्य सीमा जावेद का कहना है कि इस पहल का मकसद बच्चों को आधुनिक शिक्षा देना है।


मदरसों का निरीक्षण


उन्होनें कहा कि पूर्व में उनके द्वारा कई मदरसों का निरीक्षण किया गया। इनमें बच्चे अरबी और उर्दू तो पढ़ रहे हैं, लेकिन आधुनिक विषयों से जुड़े सवालों का वह जवाब नहीं दे पाए। इसे देखते हुए ही राज्य में आधुनिक मदरसा खोलने का निर्णय किया गया। सीमा जावेद का कहना कि देहरादून में आधुनिक मदरसे के लिए भूमि मिल गई है। यह दान में मिली है, लेकिन अभी स्थान का खुलासा वह नहीं करेंगी।


उन्होंने बताया कि आधुनिक मदरसे में अन्य धर्मों की पुस्तकें भी पढ़ाई जाएंगी, ताकि सभी धर्मों के बारे में बच्चों को जानकारी हो सके। यही नहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने के अनुरूप आधुनिक मदरसे में बच्चों को कंप्यूटर की शिक्षा भी दी जाएगी। इसके अलावा इनमें स्मार्ट क्लास और योग की कक्षाएं भी चलेंगी।


मदरसे में धर्मगुरुओं के साथ ही विभिन्न विषयों के योग्य शिक्षक पढ़ाएंगे। उन्होंने बताया कि मदरसे की मान्यता के लिए वह 25 मई के बाद मदरसा बोर्ड के सब रजिस्ट्रार अखलाख सिद्दिकी से मुलाकात करेंगी। उधर, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक शशिकांत दीक्षित ने कहा कि राष्ट्रीय मुस्लिम मंच स्वतंत्र संगठन है। अगर वह ऐसी कोई पहल कर रहा है तो अच्छी बात है।